Tuesday, May 7, 2013

क्यों झाँकना नज़र में ये, नक़ाब जैसा है...


फ़िलहाल ये मेरी आखरी पोस्ट है। लौट कर आऊँगी लेकिन कब आऊँगी मालूम नहीं। आज ही निकल रही हूँ होलैंड और उसके बाद भारत के लिए। शायद आ पाऊं ब्लॉग पर या शायद न भी आ पाऊं। जो भी है आप सभी को हैपी-हैपी ब्लॉग्गिंग। कोई टंकी-वंकी  पर नहीं चढ़ रही हूँ, बस एक बार फिर बीजी होने वाली हूँ। तो मिलते हैं एक छोटे/लम्बे ब्रेक के बाद :):)
जब भी लौट कर आऊँगी यहीं आऊँगी :) 

मिला जब वो प्यार से, तो गुलाब जैसा है
आँखों में जब उतर गया, शराब जैसा है

खामोशियाँ उसकी मगर, हसीन लग गईं 
कहने पे जब वो आया तो, अज़ाब जैसा है

करके नज़ारा चाँद का, वो ख़ुश बहुत हुआ 
ख़बर उसे कहाँ वो, आफ़ताब जैसा है

करते रहो तुम बस्तियाँ, आबाद हर जगह  
इन्सां यहाँ इक छोटा सा, हबाब जैसा है

कुछ दोस्ती, कुछ प्यार, कुछ वफ़ा छुपा लिया
क्यों झाँकना नज़र में ये, नक़ाब जैसा है

अज़ाब=ख़ुदा का क़हर या नाराज़गी
आफ़ताब = सूरज
हबाब=बुलबुला  


आओ हुज़ूर तुमको सितारों में ले चलूँ ...आवाज़ 'अदा' की ..

17 comments:

  1. वाह,कनाडा से यह डिपार्टिंग ग़ज़ल है -भारत में आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
    Replies

    1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
      आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (08-04-2013) के "http://charchamanch.blogspot.in/2013/04/1224.html"> पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
      सूचनार्थ...सादर!

      Delete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 08/05/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. ओ जाने वाले
    लौट के आना
    जल्दी
    फौरन से पेश्तर
    सादर

    ReplyDelete
  5. पता नहीं यहाँ का कमेन्ट कहाँ चला गया ? :-((
    जोरदार - कानाड़ा से विदाई ग़ज़ल -अब भारत में मिलगें -स्वागतम !

    ReplyDelete
  6. "इन्सां यहाँ इक छोटा सा, हबाब जैसा है" बहुत सुन्दर रचना. होलैंड सुन्दर देश है आपका सफ़र सुखमय हो.

    ReplyDelete
  7. wah ! kya baat hai ......kya khoob likha hai

    ReplyDelete

  8. बाह क्या बात है ,भारत में स्वागत है
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post'वनफूल'

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर..... यात्रा के लिए शुभकामनायें

    ReplyDelete


  10. मिला जब वो प्यार से, तो गुलाब जैसा है
    आँखों में जब उतर गया, शराब जैसा है

    बहुत अच्छा लगा...

    ReplyDelete
  11. करते रहो तुम बस्तियाँ, आबाद हर जगह
    इन्सां यहाँ इक छोटा सा, हबाब जैसा है

    कुछ दोस्ती, कुछ प्यार, कुछ वफ़ा छुपा लिया
    क्यों झाँकना नज़र में ये, नक़ाब जैसा है

    MOST WELCOME IN INDIA LET ME KNOW YOUR PRESENCE 9827883541
    PLEASE DO VISIT AKALTARA C.G. MAIN STOPPAGE BOMBAY HOWARA ROUTE..

    ReplyDelete
  12. आने वाली व्यस्तता के लिये शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  13. Thanks for finally writing about > "क्यों झाँकना नज़र में ये, नक़ाब जैसा है..." < Loved it!

    My web-site ... premature ejaculation forum

    ReplyDelete
  14. वाह! क्या खूब बात कही आपने । यह रचना मन को छु गई । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete